Monday, June 17, 2024

Nightmares predictor of future dementia, दुःस्वप्न भविष्य में होने वाले डिमेंशिया की कर सकते हैं भविष्यवाणी, जानें क्‍यों कह रहे विशेषज्ञ – nightmares may predict future dementia

Must read

- Advertisement -

[ad_1]

बर्मिंघम विश्वविद्यालय (यूके): हम अपने जीवन का एक तिहाई हिस्सा सोते हुए बिताते हैं। और हम सोने में जितना समय बिताते हैं उसके एक चौथाई हिस्से में सपने देखते हैं। तो, इसका यह मतलब है कि 2022 में जीवित औसत व्यक्ति, लगभग 73 वर्ष की जीवन प्रत्याशा के साथ, सपने देखने में छह साल से अधिक का समय बिताता है। हमारे जीवन में सपने देखने की केंद्रीय भूमिका को देखते हुए, हम अभी भी इस बारे में बहुत कम जानते हैं कि हम सपने क्यों देखते हैं, मस्तिष्क कैसे सपने बनाता है, और महत्वपूर्ण बात यह है कि हमारे सपनों का हमारे स्वास्थ्य के लिए क्या महत्व हो सकता है – विशेष रूप से हमारे दिमाग का स्वास्थ्य।

द लांसेट के ईक्लिनिकल मेडिसिन जर्नल में प्रकाशित मेरे नवीनतम अध्ययन से पता चलता है कि हमारे सपने हमारे मस्तिष्क के स्वास्थ्य के बारे में आश्चर्यजनक मात्रा में जानकारी प्रदान कर सकते हैं। अधिक विशेष रूप से, यह दर्शाता है कि मध्यम आयु या वृद्धावस्था के दौरान बार-बार बुरे सपने और बहुत बुरे सपने (बुरे सपने जो आपको जगाते हैं) आने से मनोभ्रंश विकसित होने का खतरा बढ़ सकता है। अध्ययन में, मैंने स्वास्थ्य और उम्र बढ़ने के तीन बड़े अमेरिकी अध्ययनों के आंकड़ों का विश्लेषण किया। इनमें 35 से 64 वर्ष की आयु के 600 से अधिक लोग और 79 और उससे अधिक उम्र के 2,600 लोग शामिल थे। अध्ययन की शुरुआत में सभी प्रतिभागी मनोभ्रंश से मुक्त थे और मध्यम आयु वर्ग का औसतन नौ साल और अधिक उम्र के प्रतिभागियों का पांच साल तक अध्ययन किया गया।

महिलाओं में जोखिम में वृद्धि केवल 41 प्रतिशत

अध्ययन (2002-12) की शुरुआत में, प्रतिभागियों ने प्रश्नावली की एक श्रृंखला पूरी की, जिसमें एक ने पूछा कि उन्हें कितनी बार बुरे सपने और नींद से जगाने की हद तक बुरे सपने आते हैं। मैंने यह पता लगाने के लिए डेटा का विश्लेषण किया कि अध्ययन की शुरुआत में दुःस्वप्न की उच्च आवृत्ति वाले प्रतिभागियों को संज्ञानात्मक गिरावट (समय के साथ स्मृति और सोच कौशल में तेजी से गिरावट) का अनुभव करने और डिमेंशिया होने की अधिक संभावना थी। साप्ताहिक दुःस्वप्न मैंने पाया कि मध्यम आयु वर्ग के प्रतिभागियों ने हर हफ्ते बुरे सपने का अनुभव किया, अगले दशक में संज्ञानात्मक गिरावट (मनोभ्रंश के लिए एक प्रारंभिक लक्षण) का अनुभव करने की संभावना चार गुना अधिक थी, जबकि अधिक उम्र के प्रतिभागियों को डिमेंशिया से प्रभावित होने की संभावना दोगुनी थी। दिलचस्प बात यह है कि दुःस्वप्न और भविष्य के मनोभ्रंश के बीच संबंध महिलाओं की तुलना में पुरुषों के लिए बहुत मजबूत था।

उदाहरण के लिए, जिन वृद्ध पुरुषों को हर हफ्ते बुरे सपने आते थे उनमें डिमेंशिया विकसित होने की संभावना उन वृद्ध पुरुषों की तुलना में पांच गुना अधिक थी, जिन्होंने कोई बुरे सपने नहीं आने की सूचना दी थी। महिलाओं में, हालांकि, जोखिम में वृद्धि केवल 41 प्रतिशत थी। मुझे मध्यम आयु वर्ग में एक समान पैटर्न मिला। कुल मिलाकर, इन परिणामों से पता चलता है कि बार-बार दुःस्वप्न मनोभ्रंश के शुरुआती लक्षणों में से एक हो सकता है, जो कई वर्षों या दशकों तक स्मृति और सोच की समस्याओं के विकास से पहले हो सकता है – खासकर पुरुषों में। वैकल्पिक रूप से, यह भी संभव है कि नियमित रूप से बुरे सपने और बहुत बुरे सपने आना भी मनोभ्रंश का कारण हो सकता है। यह शोध न केवल मनोभ्रंश और सपने देखने के बीच संबंधों पर प्रकाश डालने में मदद कर सकता है, बल्कि यह रहस्यमय घटना की प्रकृति और कार्य पर भी नया प्रकाश डाल सकता है जिसे हम सपने देखना कहते हैं।

(आबिदेमी ओटाइकु : न्यूरोलॉजी में एनआईएचआर अकादमिक क्लिनिकल फेलो)

[ad_2]

Source link

      More articles

      - Advertisement -

          Latest article