Friday, July 26, 2024

    एनटीपीसी की राख बनी ग्रामीणों के लिए समस्या, धनरास स्थित व्हाइट हाउस में ग्रामीणों ने 6 घंटे तक किया प्रदर्शन,प्रबंधन के लिखित आश्वासन के पश्चात प्रदर्शन समाप्त

    Must read

    कोरबा :-30 जनवरी 2023 सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम एनटीपीसी प्रबंधन के दोहरे मापदंडों को लेकर परियोजना प्रभावित ग्रामीणों की नाराजगी बढ़ी हुई है। धनरास गांव में राखड़ समस्या से परेशान होकर ग्रामीणों ने आज फिर प्रदर्शन किया। वे इस बात से नाराज हैं कि तीन महीने पहले एनटीपीसी के अधिकारियों ने त्रिपक्षीय वार्ता में समस्या को हल करने की बात कही लेकिन इस पर काम नहीं किया।

    2600 मेगावाट बिजली उत्पादन करने वाले महारत्न कंपनी एनटीपीसी संयंत्र ने अपने यहां से निकलने वाली राख के सुरक्षित भंडारण के लिए धनरास में राखड़ बांध बनाया है। क्षमता विस्तार के लिए यहां पर पूर्व के वर्षों में रेजिंग का काम भी किया गया। सरकार के द्वारा तय मापदंडों के अंतर्गत यहां वाटर स्प्रिंकलर लगाए गए ताकि हर समय राखड़बांध का इलाका नमीयुक्त रहे।


    ग्रामीणों की कहना है कि ठेके पर कराये जा रहे इस तरह के कार्यों को लेकर लापरवाही बरती जा रही है। ऐसे में हल्की सी भी हवा चलने पर यहां से राख का गुबार उठता है और आसपास के इलाके सहित लोगों के घरों को बूरी तरह से प्रभावित करता है। खास तौर पर धनरास, छुटकी छूरी, लोतलोता और पुरेनाखार का इलाका इन कारणों से समस्याग्रस्त हैं। धनरास में स्थिति कुछ ज्यादा ही खराब है।

    वर्ष 2021 में ग्रामीणों ने इसी मसले को लेकर यहां प्रदर्शन किया था। कटघोरा विधायक पुरूषोत्तम कंवर ने इस दौरान हस्तक्षेप करते हुए एनटीपीसी प्रबंधन को चेताया भी था। तब निश्चित अवधि में राखड़ को उडऩे नहीं देने के लिए ठोस कार्य योजना बनाने और इस पर काम करने का भरोसा अधिकारियों ने दिया था। समय सीमा बीतने पर भी परेशानी बनी हुई है और ग्रामीण दिक्कतों से जूझ रहे हैं। उन्होंने एनटीपीसी पर वादाखिलाफी करते हुए आज फिर प्रदर्शन किया और कहा कि अगर रवैय्या नहीं बदला तो यहां राखड़ फेंके जाने पर रोक लगाई जाएगी।

    बता दे की पंडरीपानी में दिखाये गए तेवर इससे पहले सीएसईबी कोरबा पश्चिम परियोजना के राखड़ बांध निर्माण से प्रभावित लोगों को नौकरी और पुनर्वास का मामला विवादों में है। इसके अलावा वायु प्रदूषण की समस्या भी यहां पर कायम है। वर्ष 2022 में पंडरीपानी और लोतलोता के लोगों ने इस विषय को लेकर काफी दिनों तक प्रदर्शन किया और प्रबंधन की चुनौतियां बढ़ायी। तब कहीं जाकर नीतिगत रूप से उनके मामलों का निराकरण करने का भरोसा दिया गया।

    प्रशासन ने साप्ताहिक रिपोर्ट लेने की नीति बनायी तब कहीं जाकर सीएसईबी के अधिकारियों में कान में जूं रेंगी है।


    इसी का हवाला देते हुए धनरास के ग्रामीणों ने भी एनटीपीसी के खिलाफ आज 6 घंटे तक प्रदर्शन किया।प्रदर्शन स्थल पर एनटीपीसी प्रबंधन के अधिकारी पहुंचे और ग्रामीणों की मांग को गंभीरता से लेते हुए समस्या का यथाशीघ्र निराकरण करने लिखित आश्वासन देने के पश्चात ग्रामीणों ने प्रदर्शन समाप्त किया।

        More articles

        Latest article